साहित्य अकादमी ने बाल साहित्यब पुरस्काhर और युवा पुरस्काकर 2019 की घोषणा की

June 17, 2019

साहित्य अकादमी ने बाल साहित्यब पुरस्काhर और युवा पुरस्काकर 2019 की घोषणा की

बाल साहित्य पुरस्कार उन पुस्तकों के लिए है जो पिछले पांच वर्षों से पहले प्रकाशित हुई हों. प्रारंभिक 10 वर्षों के दौरान तक एक लेखक को बाल साहित्य पुरस्कार दिया जा सकता है.

साहित्‍य अकादमी ने साहित्‍य अकादमी बाल साहित्‍य पुरस्‍कार 2019 के लिए 22 लेखकों तथा युवा पुरस्‍कार 2019 के लिए 23 लेखकों का चयन किया है. अगरतला में अकादमी के अध्‍यक्ष डॉ. चन्‍द्रशेखर काम्‍बर की अध्‍यक्षता में कार्यकारी बोर्ड की बैठक में पुरस्‍कार पाने वाले लोगों के चयन को स्‍वीकृति दी गई.

केन्‍द्रीय पर्यटन तथा संस्‍कृति राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) प्रहलाद सिंह पटेल ने पुरस्‍कार विजेताओं को बधाई दी है. पुरस्‍कार विजेताओं का चयन प्रत्‍येक भाषा में तीन सदस्‍यीय निर्णायक मंडलों द्वारा की गई सिफारिशों तथा निर्धारित नियमों और प्रक्रिया के आधार पर किया गया. प्रक्रिया के अनुसार कार्यकारी बोर्ड ने पुरस्‍कारों की घोषणा निर्णायक मंडल के सर्वसम्‍मत/बहुमत के आधार पर किया.

– बाल साहित्‍य पुरस्‍कार के लिए पुरस्‍कार उन पुस्‍तकों से संबंधित हैं, जो पुरस्‍कार वर्ष के पहले के 5 वर्षों की अवधि में (यानी 1 जनवरी, 2013 तथा 31 दिसम्‍बर, 2017 के बीच) पहले प्रकाशित हुई हों.

– प्रारंभिक 10 वर्षों के दौरान यानी 2010 से 2019 तक पुरस्‍कार एक लेखक को बाल साहित्‍य में उसके सम्‍पूर्ण योगदान के आधार पर दिया जा सकता है.

– यह पुरस्‍कार उन पुस्‍तकों से संबंधित हैं, जिनका प्रकाशन पुरस्‍कार वर्ष की 1 जनवरी को 35 वर्ष या उससे कम आयु के लेखकों ने किया है.

– बाद में एक समारोह में पुरस्‍कार मंजूषा रूप में अंकित ताम्र पट्टिका तथा 50 हजार रुपये का चैक विजेताओं को प्रदान किए जाएंगे

भाषा शीर्षक लेखक
असमी मिली, अमिया अरु एखोन नादी (कहानी) स्विम नसरीन
बंगाली समग्र योगदान नबंदिता देबसेन
बोडो सोलोबाथा ख्वांगसॉंग डे (लोक-कथाएं) लखीमनाथ ब्रह्मा
डोगरी लार्जान (कविताएं) विजय शर्मा
अंग्रेजी इंडिया थ्रू आर्कियोलोजी (इतिहास) देविका करियप्पा
हिंदी काचू की टोपी (कहानियां) गोविंद शर्मा
कन्नड़ कडू कनासिना बीडिगे (उपन्यास) चंद्रकनाथ करादली
कश्मीरी शुरिन हुन्ज नाजी (कविताएँ) नाजी मनुवर
कोंकणी चिटकुल्या चिंकिचये विशाल विश्वा (कहानियां) राजश्री कर्पुरकर
मलयालम समग्र योगदान मलायाथ अप्पुनी
मणिपुरी थवाईशिगी थवाई (नाटक) सनाहनबी चानु
उर्दू विज्ञान के दिलचस्प मजमे (कहानियां) मोहम्मद खलील
पंजाबी एलियंस दी धरती ते (उपन्यास) पवन हरचंदपुरी

 


WhatsApp Message!